| KHORTHA.IN | a web portal for Khortha language and literature

an effort of popular Khortha monthaly magazine "LUATHI"

खोरठा की लोकप्रिय मासिक पत्रिका "लुआठी" का विनम्र प्रयास

 

बर्ष-2, अंक-1, सितम्बर-2010 (मासिक), दाम 10/- टाका

 

संपादकीय

संपादकीय

लोक संस्कीरतिक सबले बोड़ बाहक हवे हे लोक गीत, आर ऊ लोक गीत जकर सबले बेसी परसार हवे ओहे ऊ छेतरेक मुंधाइन लोकगीत होवे पारे।

वइसें तो झारखंडेक सब परब-तिहारें लोक गीत गावल जाय, ताव करम गीतेक सबले बेसी परसार देखल जाय पारे। करम परब झारखंडेक अइसन परब हे जे मोटा-मोटी गोटे झारखंडें आदिवासी-सदान सभे मनवथ आर हिंयाक सब लोक भासाँइ करम गीत पावल जाइ सइ लेल करम परब के जोदि झारखंडेक राज-परब कहे पारी।

जदियो करम गीत पइत गाँवें गावल जाहे मेंतुक ताउ गाँवेक नउतन पिढ़ीक बेटी छउवा सब करमा गीतेक किताब खोजथ।

’लुआठी’क ई करम अंके खोरठा छेतरें पसरल करमा गीतेक मइधें बाइस गो बाछल गीत छापल जाय रहह हे। करमा परबें कुछ लोककथाओ परचलित हे, हिंया डॉ0 ए0 के0 झा जीक जोहड़वल एगो लोककथा दियल जाइ रहह हइ।

संगे-संग ’करम पोरबेक लहर’ लेखें करमा परबेक बिधि-बिधान संगें करमइतिक हूब के देखवल गेले हइ।

आसा हे ’लुआठी’क ई करमा अंक खोरठा पाठक खातिर जोगाइ राखेक जुकुर हवत आर ई झारखंडी संस्कीरतिक जोगवेक दिसाँइ महती भूमिका हवत।

- संपादक

 

पुराने अंकों के लिए संपर्क करें : luathi.in@gmail.com

 

Check out the Promotions

संपादक
गिरिधारी गोस्वामी

 

सलाहकार मंडल
मो0 सिराजउद्दीन अंसारी ‘सिराज’
श्री जनार्दन गोस्वामी ‘व्यथित’
श्री पंचम महतो
श्री शंकर प्रसाद महतो
डा नागेश्वर महतो

 

संपादन परामर्श
अश्विनी कुमार ’पंकज’
शिवनाथ मानिक

 

विशेष प्रतिनिधि
श्याम सुन्दर केवट ‘रवि’
मणिलाल ‘मणि’
गीता वर्मा
अरविन्द कुमार(राँची)

 

कार्यालय प्रभारी
मीरा जोगी

 

संपादकीय संपर्क :
2बी/2-178,
बोकारो स्टील सिटी-827001
फोन नं॰-06542 222437,
09234222426,09430116617
बेबसाइट- www.luathi.in
e mail- luathi.in@gmail.com

 

प्रकाशक,मुद्रक, एवं स्वामी गिरिधारी गोस्वामी

क्वा. न. : 2-178, सेक्टर 2बी,

बोकारो स्टील सिटी, जिला-बोकारो, झारखंड से प्रकाशित

और जय माता दी प्रिंटर्स, ई 2, सेंटर मार्केट (लक्ष्मी मार्केट)

सेक्टर-4 बी.एस. सिटी-827004 से मुद्रित।

 

RNI No. : JHAKHO/2009/30302

 

- लुआठी’क परकासन बेबसायिक नखे। एकर सभे पद अवैतनिक हे, आर एकर परकासन मातरी भासा आर संस्कीरतिक परचार-परसार करे, खोरठा भासा-भासीक मुँहें राव दिये खातिर करल जा हे।

 

- सभे रकमेक कानुनी विवादेक निपटारा बोकारो कोटेक मइधें हवत।

 

आप सबसे एक अनुरोध

खोरठा डॉट इन 'लुआठी' पत्रिका का एक विनम्र प्रयास है। इस प्रयास को झारखंडी समुदायों, विशेषकर खोरठा भाषा-भाषी समुदाय के सक्रिय सहयोग और समर्थन की आवश्यकता है। खोरठा की एकमात्र नियमित पत्रिका ‘लुआठी’ महज पत्रिका नहीं है बल्कि यह झारखंड के खोरठा भाषा-साहित्य की प्रतिनिधि सांस्कृतिक पत्रिका है। आपसे आग्रह है, इस प्रयास को आगे बढ़ाइए। अपने विचारों, सुझावों ओर प्रतिक्रियाओं से हमें luathi@khortha.in पर जरूर अवगत कराइए।