| KHORTHA.IN | a web portal for Khortha language and literature

an effort of popular Khortha monthaly magazine "LUATHI"

खोरठा की लोकप्रिय मासिक पत्रिका "लुआठी" का विनम्र प्रयास

 

बर्ष-2, अंक-4, दिसम्बर 2010 (मासिक), दाम 10/- टाका

 

झारखंडेक पहिल पंचायत चुनाव

एखन झारखंडें 32 बछर बाद पंचायत चुनाव भइ रहल हइ, बोकारो इस्पात कारखाना खातिर ’नोटिफिकेशन’ भेल बाद हिंयाक नौ पंचायतेक चुनाव 1964 के बाद नाय भेलइ। से नौ पंचायत एखन चोउदह पंचायत भइ गेल हे जहाँ 46 बछर बाद पंचायत चुनाव भइ रहल हइ।

कहनी / खोदाएक मरजी

इम्तियाज गदर जीक रचना कइएक रूपें खोरठा साहितें आपन थान बनवे में सफल हवत अइसन बुझा हे। खोरठा भासीक मइधें मुसलमान आबादीक आपन महत हे। इम्तियाज गदर जीक रचना में मुसलिम समाजेक कुरिति उपर प्रगतिसिल सोंच देखल जाहे। उनखर ई कहनी ’खोदाएक मरजी’ ओइसने प्रतिनिधि रचना हे जेरंग हिंदू समाजेक कुरिति उपर चोट करइत पंचम महतो जीक रचना। ई रचना उनखर एकल संकलन ’सुरमनी’ से पँइचल गेल हे। - संपादक।

लेख / बांदर नाचें खोरठा लोकगीत

खोेरठा छेतरें टावा-ठेकान करल परें हिंयाक लोकगीतें, दन्त कथाँइ, श्रुतिं, लोककथाँइ, लोकमाइनतें, बिसवासें, मानल-गनल रीति-रेवाजें ढेरे प्रचीनता जगजगा हइ। ई सबके पढ़ल-गुनल-सुनल परें ई प्रचीनता टा ’प्रमाणित’ भइ जा हइ। बिरहोर, बांदर खेलवा गुलगुलिया जाइत टा प्राक द्रविड़ कहल जा हइ।

कविता/ जनीक आरछन

जखन दस बछर आगुवे जनीक आरछनेक चरचा भेल हलइ तखनेक एगो फिंगाठी जेकर नाम जइजका खोरठा रचनाकार हथ जनार्दन गोस्वामी ’ब्यथित’ जी। ई कविता उनखर कविता संगरह ’सेंवातिक बूंद’ से पँइचल गेल हे जे 2000 में छपल हइ। ई कविता पूरूसवादी सोंच के प्रतिनिधित्व करे हे।- संपादक।

पंचायत चुनावेक कुछ रोचक दिरिस

पंचायत चुनावें सबले बोड़ बिसेसता हे एकर जाहाँ- ताहाँ आरछन कइर देवा। ई आरछन बेबस्था सें जानी नाय काइल की बेस की खाराप परभाउ पड़तइ मेनेक चुनावेक समयहीं कइयेक रोचक दिरिस देखे पावाइल।

बहुक नामें मरदेक राजनेति

आर सच में ई चुनावें कविक फिंगाठी देखल गेलइ, ई चुनावें जनीक मगज सातवें आसमान में हइ। पता नाय की करता! उहीं अइसनों जनी हथ जेकर खातिर ई पंचायत चुनाव जियेक जंजाल भइ गेल हइ। एस0डी0ओ0 ऑफिसें पंचायत समितिक सदइस खातिर नामांकन खातिर देखलों एगो अइसने बेचारी के।

गतिविधि आर समाचार - 2010

झारखंड जनजातीय कल्याण शोध संस्थान (राँची) बाट ले आयोजित लोक साहित संकलन आर संपादन के काम पूरा भेलइ। एकर में 339 पाताक किताबेक पांडुलिपि कंपोजिंग कइर ’पीडीएफ’ फाइल 23 जुलाई 2010 के संस्थान के सौंपल गेलइ। खोरठा लोक साहितेक संपादक मंडलें हला, डा0 ए0 के0 झा(प्रधान संपादक), प्रो0 चितरंजन महतो ’चित्रा’(सहायक संपादक), शिवनाथ प्रमाणिक, प्रो0 बी0 एन0 ओहदार, प्रो0 दिनेश दिनमणि, श्याम सुन्दर महतो ’श्याम’ आर गिरिधारी गोस्वामी ’आकाश खूँटी’।

श्रीनिवास पानुरी जीक 90वीं जनम दिन पर बिसेस

श्रीनिवास पानुरी जीक कविता एखन झारखंडें नक्सली समइसा चरम पर हे। एकर लेल हिंयाक लोके उपर सोसन आर अतियाचार मुल कारन मानल जा हे। श्रीनिवास पानुरी जीक कविता संकलन ’बाल किरन’ आर ’दिव्य ज्योति’ 1954 में छपल हे जकर में कुछ अइसन रचना आइल हे जे जमाखोर आर सोसकेक खिलाफ बिदरोह आर ’सषस्त्र क्रांति’ के संदेस दे हे। एकर लेल हिंयाक सोसित लोक के एकताक सदेसो दे हे। देखा पानुरी जीक ई ’दिव्य ज्योति’ के एक रचना।

 

पुराने अंकों के लिए संपर्क करें : luathi.in@gmail.com

 

Check out the Promotions

संपादक
गिरिधारी गोस्वामी

 

सलाहकार मंडल
मो0 सिराजउद्दीन अंसारी ‘सिराज’
श्री जनार्दन गोस्वामी ‘व्यथित’
श्री पंचम महतो
श्री शंकर प्रसाद महतो
डा नागेश्वर महतो

 

संपादन परामर्श
अश्विनी कुमार ’पंकज’
शिवनाथ मानिक

 

विशेष प्रतिनिधि
श्याम सुन्दर केवट ‘रवि’
मणिलाल ‘मणि’
गीता वर्मा
अरविन्द कुमार(राँची)

 

कार्यालय प्रभारी
मीरा जोगी

 

संपादकीय संपर्क :
2बी/2-178,
बोकारो स्टील सिटी-827001
फोन नं॰-06542 222437,
09234222426,09430116617
बेबसाइट- www.luathi.in
e mail- luathi.in@gmail.com

 

प्रकाशक,मुद्रक, एवं स्वामी गिरिधारी गोस्वामी

क्वा. न. : 2-178, सेक्टर 2बी,

बोकारो स्टील सिटी, जिला-बोकारो, झारखंड से प्रकाशित

और जय माता दी प्रिंटर्स, ई 2, सेंटर मार्केट (लक्ष्मी मार्केट)

सेक्टर-4 बी.एस. सिटी-827004 से मुद्रित।

 

RNI No. : JHAKHO/2009/30302

 

- लुआठी’क परकासन बेबसायिक नखे। एकर सभे पद अवैतनिक हे, आर एकर परकासन मातरी भासा आर संस्कीरतिक परचार-परसार करे, खोरठा भासा-भासीक मुँहें राव दिये खातिर करल जा हे।

 

- सभे रकमेक कानुनी विवादेक निपटारा बोकारो कोटेक मइधें हवत।

 

आप सबसे एक अनुरोध

खोरठा डॉट इन 'लुआठी' पत्रिका का एक विनम्र प्रयास है। इस प्रयास को झारखंडी समुदायों, विशेषकर खोरठा भाषा-भाषी समुदाय के सक्रिय सहयोग और समर्थन की आवश्यकता है। खोरठा की एकमात्र नियमित पत्रिका ‘लुआठी’ महज पत्रिका नहीं है बल्कि यह झारखंड के खोरठा भाषा-साहित्य की प्रतिनिधि सांस्कृतिक पत्रिका है। आपसे आग्रह है, इस प्रयास को आगे बढ़ाइए। अपने विचारों, सुझावों ओर प्रतिक्रियाओं से हमें luathi@khortha.in पर जरूर अवगत कराइए।